रासलीला, भारतीय लोक-नृत्य

Jan 22, 2023 - 17:05
 2
रासलीला, भारतीय लोक-नृत्य
रासलीला, भारतीय लोक-नृत्य

रास लीला एक नृत्य है जिसे अक्सर एक लोकप्रिय भारतीय लोक नृत्य के रूप में परिभाषित किया जाता है। रासलीला की उत्पत्ति उत्तर प्रदेश की भूमि वृंदावन से हुई, जहाँ भगवान कृष्ण निवास करते थे। रास लीला लोक नृत्य होने के साथ-साथ भारतीय संस्कृति का एक अभिन्न अंग भी है। इस शास्त्रीय भारतीय नृत्य नाटक के माध्यम से भगवान कृष्ण और राधा के शाश्वत प्रेम का जश्न मनाया जाता है। 

भारतीय राज्यों में, जैसे उत्तर प्रदेश और मणिपुर में रास लीला काफी लोकप्रिय हैं। एक भारतीय शास्त्रीय मणिपुरी नृत्य के रूप में रास लीला को इस उत्तर-पूर्वी राज्य में एक महत्वपूर्ण कला रूप का दर्जा प्राप्त है। भागवत पुराण में भगवान कृष्ण और उनके दिव्य प्रेम राधा की कहानी का वर्णन किया गया है। राधा और कृष्ण की कहानी को सदियों से प्रेम और रोमांस का प्रतीक माना जाता रहा है। यह असंख्य रंगीन भावनाओं को भी दर्शाता है जो प्रेम का गठन करती हैं। नृत्य नाटिका के माध्यम से इन विविध भावों को अद्भुत ढंग से बुना और चित्रित किया गया है। 

रासलीला प्राचीन ग्रंथों, जैसे भागवत पुराण और गीत गोविंदा से पहले भी मौजूद थी। इसलिए, भारतीय लोक नृत्य के इस रूप ने प्रेम नामक शुद्ध भावना को व्यक्त करने में मदद की। रासलीला वृंदावन में एक रात की कहानी को फिर से बताती है जब गोपियां चुपके से भगवान कृष्ण से मिलने जंगल में जाती हैं। जंगल में भगवान बांसुरी बजा रहे थे और रात भर गोपियां उनके साथ नृत्य करती रहीं। भारत में रासलीला को लोक नृत्य क्यों माना जाता है, इसका एक प्राथमिक कारण यह है कि इस कला का मूल लोक नृत्यों में है। 

समकालीन भारत में रासलीला रासधारी द्वारा की जाती है। रासलीला की पूरी मंडली में संगीतकार और नर्तक होते हैं। ये कलाकार मुख्य रूप से किशोर लड़के हैं। परंपरागत रूप से रासलीला का प्रदर्शन लगभग तीन घंटे तक चल सकता है। उत्तर प्रदेश और मणिपुर के अलावा, भारतीय लोक नृत्य भी विशिष्ट धार्मिक अवसरों के दौरान पूरे देश में किया जाता है। कृष्ण जन्माष्टमी उन विशेष अवसरों में से एक है जब भारतीय लोक नृत्य रासलीला का प्रदर्शन किया जाता है।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow

Sujan Solanki Sujan Solanki - Kalamkartavya.com Editor