भारतीय अभिनेता कमल हासन की जीवनी

Jan 26, 2023 - 21:09
Jan 26, 2023 - 13:45
 62
भारतीय अभिनेता कमल हासन की जीवनी
भारतीय अभिनेता कमल हासन की जीवनी

कमल हासन एक भारतीय अभिनेताओं में से एक माने जाते हैं, जो अभिनय में अपनी बहुमुखी प्रतिभा के लिए प्रसिद्ध है। इसके अलावा वे पटकथा लेखक, गीतकार, पार्श्वगायक और कोरियोग्राफर हैं। कमल हसन की एक बाल कलाकार के रूप में कलतुर कत्रम्मा उनकी पहली फिल्म थी, जिसके कारण उन्होंने राष्ट्रपति का स्वर्ण पदक जीता था। तब से, कमल हसन ने तमिल, तेलुगु, कन्नड़, मलयालम और हिंदी में 150 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है।

हासन ने अपने कॅरियर की शुरूआत में, लोकप्रिय अभिनेत्री श्रीविद्या के साथ कई तमिल और मलयालम फ़िल्मों में काम किया। कमल हसन एक प्रोडक्शन कंपनी, राजकमल इंटरनेशनल के मालिक हैं। मलयालम में उनकी पहली फ़िल्म साल 1974 में ‘कन्याकुमारी’ के नाम से आई, लेकिन इसी साल आई तमिल फ़िल्म ‘अपूर्वा रागांगल’ के लिए उन्हें पहली बार ‘साउथ फ़िल्मफेयर अवार्ड’ से सम्मानित किया गया।

जन्म

कमल हासन का जन्म 7 नवंबर,1954 को परमकुंडी ग्राम, तमिलनाडु, भारत के एक तमिल परिवार में हुआ था। उनके पिता का नाम डॉ. श्री निवासन था, जो कि पेशे से वकील थे और उनकी माता का नाम राजलक्ष्मी था, जो कि एक गृहिणी थी। कमल हसन ने 1978 में नर्तकी वाणी गणपति से शादी की और दस साल बाद तलाक दे दिया। इसके बाद कमल हसन और सारिका की शादी हुई, वह अभिनेत्री सारिका के साथ रह रहे थे, उन जोड़ी का पहला बच्चे के रूप में श्रुति हसन का जन्म हुआ। उनकी दो बेटियां श्रुति और अक्षरा हसन हैं। 2004 के बाद में, कमल हसन इस शादी से अलग हो गए। 2005 के बाद से, वह गौतमी तद्मल्ला के साथ एक जीवंत रिश्ते में थे, लेकिन 2016 में इस जोड़े ने अपने रिश्ते को समाप्त कर दिया।

करियर

कमल हासन ने अपने सिने करियर की शुरुआत बतौर बाल कलाकार 1960 में प्रदर्शित फ़िल्म ‘कलाधुर कमन्ना’ से की।
1975 में प्रदर्शित तमिल फ़िल्म ‘अपूर्वा रंगनागल’ में मुख्य अभिनेता के रूप में निभाए गए किरदार से उन्हें पहचान मिली।
1977 में प्रदर्शित फ़िल्म ’16 भयानिथानिले’ की व्यावसायिक सफलता के बाद कमल हासन स्टार कलाकार बन गए।


1981 में कमल हासन की अपनी पहली हिंदी फिल्म से वे सुपर स्टार बन गए।  उन्होने फिल्म निर्माता एल.वी. प्रसाद की फिल्म एक दूजे के लिए में अभिनय किया। इस फिल्म में उन्होंने एक ऐसे युवक की भूमिका निभाई जो दुसरे धर्म की लड़की से प्यार करने लगता है, जबकि दोनों के परिवार वाले इस रिश्ते के सख्त खिलाफ होते है। फिल्म में कमल हासन ने अपने अभिनय से दर्शकों का दिल जित लिया।


1982 कमल हसन की एक और सुपरहिट तमिल फ़िल्म ‘मुंदरम पिरई’ रिलीज़ हुई, जिसके लिए वह अपने सिने करियर में पहली बार सर्वश्रेष्ठ अभिनेता के राष्ट्रिय पुरस्कार से सम्मानित किए गए.
इसके बाद 1985 में कमल हासन रमेश सिप्पी के फिल्म ‘सागर’ में ऋषि कपूर और डिंपल कपाडिया के साथ नज़र आये।
1985 में कमल हासन की एक और सुपरहिट फ़िल्म ‘गिरफ़्तार’ प्रदर्शित हुई, जिसमें उन्हें सुपरस्टार अमिताभ बच्चन के साथ काम करने का मौका मिला।


 वर्ष 1983 में सदमा शीर्षक से यह फिल्म हिंदी में रिलीज हुई जिसके कई दृश्य में कमल हसन ने एक ऐसे युवक कि भूमिका निभाई, जो एक युवती कि याददाश्त खो जाने के बाद उसे सहारा देता है और बाद में उससे प्यार करने लगता है, लेकिन बाद में जब युवती कि याददाश्त लौट कर आ जाती है तो वह उसे भूल जाती है और इस सदमें को कमल हासन सहन नहीं कर पाते हैं और पागल हो जाते हैं। हालांकि फिल्म टिकट खिड़की पर असफल हुई, लेकिन सिने दर्शक आज भी ऐसा मानते हैं कि कमल हासन के सिने करियर की यह सर्वश्रेष्ठ फिल्मों में से एक है।

पुरस्कार और सम्मान

पुरस्कारों की दृष्टि से पद्मश्री धारक कमल हासन, भारतीय सिनेमा के इतिहास में सबसे अधिक सम्मानित एक्टर हैं। उनके नाम सर्वाधिक चार राष्ट्रीय फ़िल्म पुरस्कार, तीन सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार तथा एक सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार पाने वाले अभिनेता होने का रिकॉर्ड दर्ज है। इसके अतिरिक्त कमल हासन, पांच भाषाओं में रिकॉर्ड उन्नीस फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार धारक हैं – और उन्होंने 2000 में नवीनतम पुरस्कार के बाद, संगठन से ख़ुद को पुरस्कारों से मुक्त रखने का आग्रह किया।

अन्य सम्मान में शामिल है, तमिलनाडु राज्य फ़िल्म पुरस्कार, नंदी पुरस्कार और विजय पुरस्कार, जहां कमल हासन ने दशावतारम में अपने योगदान के लिए चार अलग पुरस्कार जीते। 2014 में उन्हें पद्म भूषण से सम्मानित किया गया।

What's Your Reaction?

like

dislike

love

funny

angry

sad

wow

Sujan Solanki Sujan Solanki - Kalamkartavya.com Editor